उप प्रधानाचार्य


उप प्रधानाचार्य की कलम से . . . . . . . . . . 

बुन्देलखण्ड के झाँसी जनपद की सबसे पिछड़ी तहशील गरौठा मई उच्च शिक्षा की कमी एक लम्बे समय से चली आ रही थी जिसकी पूर्ती माँ गायत्री की अनुकम्पा से वेदमूर्ति तपोनिष्ठ पं.श्री राम शर्मा आचार्य पूज्य गुरूदेव ने प्रबंधक जी के मन मस्तिष्क में प्रकाश पुंज में आकर प्रेरणा देकर की । अपनी माता श्रीमती भगवती देवी ने सपनो को साकार करने के लिये उनकी प्रबल इच्छानुसार औध्योगिक प्रशिक्षण संस्थान की स्थापना कर क्षेत्र के बच्चों को औध्योगिक शिक्षा प्राप्त करने का सुअवसर प्रदान किया । महाविद्यालय मई योग्य एवं अनुभवी शिक्षकों व्दारा शिक्षा प्रदान की जाती । ताकि बालक सुयोग्य अनुशासित एवं संस्कारवान बनकर अपने उज्ज्वल भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर सकें । मैं इसी औध्योगिक संस्थान में उप प्राचार्य पद पर रहकर क्षेत्र के बालक / बालिकाओं से अपील करता हूँ कि वे भगवती देवी औध्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में प्रवेश लेकर संस्थान व क्षेत्र का नाम रोशन करें ।