आचार संहिता

1. संस्थान परिसर एवं संस्थान के बाहर रैंकिंग पूर्णरूप से प्रतिबंधित है । प्रत्यक्ष का परोक्ष रूप से शामिल छात्र छात्रयों के विरूध्द शासकीय/माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार कार्यवाही की जायेगी । जिसमें संस्थान से निष्कासन भी शामिल हैं । 

2. छात्र/छात्रओं को अपने बीच एवं शिक्षिकों तथा शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के प्रति सम्मानजन्य व्यवहार अपेक्षित है । 

3. संस्थान परिसर में बीड़ी, सिगरेट पीना एवं गुटखा तम्बाकू चबाना तथा अन्य नशीली वस्तुओं का सेवन पूर्ण रूप से वर्जित है, अन्यथा की स्थिति में सम्बन्धित छात्र/छात्रा से 24 घंटे के अन्दर 500 रू. जुर्माना वसूला जाएगा । 

4. छात्र/छात्रा से अपेक्षा की जाती है कि  वह संस्था की सम्पत्ती को हर प्रकार से सुरक्षित रखें । किसी छात्र/छात्रा व्दारा संस्थान की सम्पत्ति को क्षति पहुंचाने की स्थिति में उसके दुरस्ती करण में आयी लागत छात्र/छात्रा व्दारा देय होगी । 

5. छात्र/छात्राएं निर्धारित स्थान पर अपने साइकिल, मोटरसाइकिल  या अन्य वहां रखेंगे । 

6. प्राचार्य की पूर्व अनुमति के बिना छात्र/छात्राओं व्दारा निम्न कार्य नहीं किये जा सकते -

(अ) किसी प्रकार की समितियां, संगठन का गठन नहीं कर सकेंगे । 

(ब) संस्थान परिसर एवं उसके बाहर छात्रों को संम्बोधन के लिए किसी ब्यक्ति को आम्न्त्रित नहीं कर सकेंगे । 

(स) संस्थान परिसर में किसी प्रकार का उत्सव नहीं कर सकेंगे । 

7. संस्थान भवन की दीवालों में किसी प्रकार का लेखन तथा ब्लैकबोर्ड में अशोभनीय शब्दों का लेखन व् चित्रंकन पूर्णत: वर्जित है । 

8. खाली घंटों में छात्र/छात्राओं का इधर-उधर घूमना तथा समूह में बातचीत करना वर्जित है । एसी दसा में उन्हें सलाह दी जाती है । कि वह वाचनालय में शान्तिपूर्वक अपना समय दें । 

9. छात्रों का छात्राओं के प्रति सम्मानजनक एवं साफ सुथरा व्यवहार रखना अनिवार्य है ।  इस सम्बन्ध में किसी प्रकार के दुर्व्यवहार की शिकायत पर जाँचों उपरान्त सख्त कार्यवाही की जायेगी । 

10. संस्थान परिसर के अन्दर सभी छात्र/छात्राओं के मोबाईल पूर्णत: स्विच आँफ रहेंगे, अन्यथा की स्थिति में छात्र/छात्राओं का मोबाईल जब्त करते हुए 1000रू. का आर्थिक दण्ड लगाया जा सकता है । 

11. संस्थान के प्रत्येक छात्र/छात्रा को अपना परिचय पत्र अपने पास रखना अनिवार्य होगा तथा किसी शिक्षक या कर्मचारी के मांगे जाने पर प्रस्तुत करना होगा । 

12. उपरोक्त के अतिरिक्त छात्र/छात्रा से अपेक्षा की जाती है । कि वह प्रबंध तन/प्राचार्य एवं प्राध्यापकों व्दारा समय-समय पर किये गये आदेशों एवं नियमों का पालन करें । इन नियमों का उल्लंघन करने पर सम्बन्धित छात्र/छात्राओं को दुर्व्यवहार एवं कार्य विमुखता के लिए निम्नांकित रूपों में एक या एक से अधिक दण्ड किये जा सकते है । 

(अ) अर्थदण्ड 

(ब) अनुशासन समिति की संस्तुति के अनुरूप कक्षा से निलंबन 

(स) संस्थान से निष्कासन